“नारायण की तुलना ब्रम्हा और शिव जैसे दवताओं के साथ करना भी निषिद्ध है, फिर अन्य का क्या ही कहना.

यस् तु नारायणम् देवाम् ब्रह्म-रुद्रादि-दैवतेः
समात्वेनैव विक्षेत स पाषंडि भवेद ध्रुवम

“”जो व्यक्ति ब्रह्मा और शिव जैसे देवताओं को नारायण के समान स्तर पर मानता है, उसे निश्चित रूप से अपराधी माना जाना चाहिए.”” हमें देवताओं की तुलना नारायण से नहीं करनी चाहिए, क्योंकि शंकराचार्य ने भी इसे निषिद्ध किया है (नारायणः परो व्यक्तात). इसके अतिरिक्त, जैसा कि वेदों में उल्लेख किया गया है, एको नारायण आसिन न ब्रह्मा नेशानाः : “”सृष्टि के प्रारंभ में केवल परम व्यक्तित्व, नारायण थे, और ब्रह्मा या शिव का कोई अस्तित्व नहीं था.”” इसलिए, जो व्यक्ति अपने जीवन के अंत में नारायण का स्मरण करता है, वह जीवन की पूर्णता को प्राप्त करता है (अंते नारायण-स्मृति:)”

स्रोत:अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), श्रीमद् भागवतम्, दसवाँ सर्ग, अध्याय 13- पाठ 56

(Visited 4 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •