आत्म-निर्भर होने के कारण, परम भगवान को महान बलियों की आवश्यकता नहीं होती. अधिक ऐश्वर्यमयी जीवन के लिए भोग-विलास उन लोगों के लिए होता है जो अपने हित में ऐसे भौतिक ऐश्वर्य की कामना करते हैं. यज्ञार्थात कर्मणो ‘न्यत्र लोको’ यम कर्म-बंधनः [भ.गी. 3.9] यदि हम परम भगवान को संतुष्ट करने के लिए कार्य नहीं करते हैं, तो हम माया की गतिविधियों में संलग्न हैं. हम एक भव्य मंदिर का निर्माण कर सकते हैं और हजारों डॉलर खर्च कर सकते हैं, लेकिन इस तरह के मंदिर की आवश्यकता भगवान को नहीं होती है. भगवान के निवास के लिए कई लाखों मंदिर हैं और उन्हें हमारे प्रयास की आवश्यकता नहीं है. उन्हें राजसी गतिविधि की कोई आवश्यकता नहीं है. ऐसी संलग्नता हमारे लाभ के लिए है. यदि हम एक भव्य मंदिर के निर्माण में अपना धन लगाते हैं, तो हम अपने प्रयासों की प्रतिक्रियाओं से मुक्त हो जाते हैं. यह हमारे लाभ के लिए है. इसके अतिरिक्त, यदि हम परम भगवान के लिए कुछ अच्छा करने का प्रयास करते हैं, तो वह हमसे प्रसन्न होते हैं और हमें उनका आशीर्वाद प्राप्त होता है. निष्कर्ष यह, कि यह सुंदर व्यवस्था भगवान के लिए नहीं बल्कि स्वयं हमारे लिए है. यदि हम किसी तरह भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं, तो हमारी चेतना को शुद्ध किया जा सकता है और हम भगवान के पास, वापस घर लौटने के योग्य बन सकते हैं.

अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी) “श्रीमद् भागवतम्”, पंचम सर्ग, अध्याय 03- पाठ 08

(Visited 5 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •