एक भक्त भौतिक सुखों की लालसा नहीं रखता, यद्यपि केवल इच्छा करने से वे उसके लिए उपलब्ध होते हैं. भगवान की कृपा से, एक भक्त आश्चर्यजनक भौतिक सफलता केवल इच्छा मात्र से पा सकता है. लेकिन एक वास्तविक भक्त ऐसा नहीं करता. भगवान चैतन्य महाप्रभु ने सिखाया है कि व्यक्ति को भौतिक समृद्धि या भौतिक यश की कामना नहीं करना चाहिए, न ही उसे भौतिक सौंदर्य के भोग का प्रयास करना चाहिए; उसे केवल भगवान की आध्यात्मिक सेवा में तल्लीन हो जाने की इच्छा करनी चाहिए, भले ही वह मुक्ति न पाए लेकिन उसे असीमित रूप से जन्म और मृत्यु की प्रक्रिया को जारी रखना पड़ेगा. एक विशुद्ध भक्त भगवान से कुछ नहीं चाहता. वह मुक्ति भी नहीं चाहता, भौतिक वस्तुओं के बारे में कहना ही क्या. सामान्यतः, लोग धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष उस क्रम में चाहते हैं. सबसे पहले, लोग भौतिक समृद्धि (अर्थ) पाने के लिए, धार्मिक बनना चाहते हैं (धर्म). लोग भौतिक समृद्धि अपनी इंद्रियों (काम) को तृप्त करने के लिए चाहते हैं, और जब वे अपनी इंद्रियों को तुष्ट करने के प्रयास में निराश हो जाते हैं, तब वे मुक्ति (मोक्ष) चाहते हैं. इस विधि से, धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष चले आ रहे हैं. यद्यपि, एक भक्त इनमें से किसी में भी रुचि नहीं रखता. ईसाई पंथ में लोग प्रार्थना करते हैं, “आज के दिन हमारा दैनिक भोजन दीजिये,” लोकिन एक शुद्ध भक्त अपना दैनिक भोजन भी नहीं मांगता. एक शुद्ध भक्त भगवान कृष्ण के हाथों में एक बहुत मूल्यवान रत्न की भांति रखा होता है. जब आप अपने हाथ में कुछ बहुमूल्य पकड़ते हैं, तो आप बहुत सावधान रहते हैं, और उसी समान, कृष्ण अपने भक्त को थामे रखते हैं और उसकी चिंता करते हैं.

श्रीमद-भागवतम (2.3.10) भी पुष्टि करता है कि भले ही कोई व्यक्ति भौतिक भोग या मुक्ति की इच्छा रखता हो, उसे भक्ति सेवा में संलग्न होना चाहिए. जो लोग आध्यात्मिक सेवा के माध्यम से भौतिक लाभ प्राप्त करने के आकांक्षी हैं वे सच्चे भक्त नहीं होते, लेकिन चूँकि वे आध्यात्मिक सेवा में रत हैं उन्हें भाग्यशाली माना जाता है. वे नहीं जानते कि आध्यात्मिक सेवा का परिणाम भौतिक कल्याण नहीं है, लेकिन चूँकि वे स्वयं को भगवान की आध्यात्मिक सेवा में संलग्न करते हैं, वे अंततः समझ जाते हैं कि भौतिक सुख आध्यात्मिक सेवा का लक्ष्य नहीं है. स्वयं कृष्ण कहते हैं कि वे व्यक्ति जो आध्यात्मिक सेवा के बदले में कुछ भौतिक लाभ चाहते हैं, निश्चित रूप से मूर्ख हैं क्योंकि वे अपने लिए वह वस्तु चाहते हैं जो विषैली है. आध्यात्मिक सेवा का वास्तविक लक्ष्य भगवान का प्रेम है, और भले ही कोई व्यक्ति कृष्ण से भौतिक सुख की कामना करे, सर्व-शक्तिमान होते हुए, भगवान व्यक्ति की स्थिति पर विचार करते हैं और धीरे-धीरे उसे भौतिक रूप से महत्वाकांक्षी जीवन से मुक्त कर देते हैं और उसे आध्यात्मिक सेवा में अधिक व्यस्त कर देते हैं. जब कोई वास्तव में आध्यात्मिक सेवा में रत हो जाता है, तो वह अपनी भौतिक महत्वाकांक्षाएँ और कामनाएँ भूल जाता है.

अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2012 संस्करण, अंग्रेजी), “भगवान चैतन्य, स्वर्ण अवतार की शिक्षाएँ”, पृ. 129
अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2007 संस्करण, अंग्रेजी), “देवाहुति के पुत्र, भगवान कपिल की शिक्षाएँ”, पृ. 222

(Visited 22 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •