ब्रम्ह संहिता (5.54) में ऐसा कहा गया है, कर्माणि निर्दहति किंतु च भक्ति-भजम: “उनके लिए जो भक्ति सेवा, भक्ति-भजन में रत हो, पिछले कर्मों के परिणामों की क्षतिपूर्ति कर दी जाती है.” इसके अनुसार, भरत महाराज को उनके पिछले बुरे कर्मों के लिए दण्ड नहीं दिया जा सका था. निष्कर्ष यही हो सकता है कि महाराज भरत उद्देश्यपूर्ण रूप से मृग पर अतिआसक्त बन गए थे और उन्होंने अपनी आध्यात्मिक प्रगति की उपेक्षा की. अपनी त्रुटि को तुरंत ठीक करने के लिए, कुछ समय के लिए उन्हें एक मृग का शरीर दे दिया गया था. ऐसा केवल गंभीर भक्ति सेवा के लिए उनकी इच्छा को बढ़ाने के लिए था. यद्यपि भरत महाराज को एक पशु का शरीर दे दिया गया था, वे यह नहीं भूले कि उनकी उद्देश्यपूर्ण भूल के कारण क्या हुआ था. वह अपने मृग के शरीर से निकलने के लिए व्याकुल थे, और यह दर्शाता है कि भक्ति सेवा के लिए उनका स्नेह सघन हो गया था, इतना कि वे अगले जीवन में एक ब्राम्हण के शरीर में पूर्णता अर्जित करने वाले थे. ऐसा इस विश्वास के साथ है कि हम अपनी बैक टू गॉडहेड पत्रिका में घोषणा करते हैं कि वृंदावन में रहने वाले गोस्वामी जैसे भक्त जो जानबूझकर कुछ पाप कर्म करते हैं वे उस पवित्र भूमि में कुत्ते, वानर, और कछुओं के शरीर में पैदा होते हैं. इस प्रकार वे थोड़े समय के लिए इन निचले जीवन रूपों को धारण करते हैं और उन पशुओं के शरीर त्यागने के बाद, उन्हें फिर से आध्यात्मिक संसार में पदोन्नत किया जाता है. ऐसे दण्ड केवल कुछ समय के लिए होता है, और यह पिछले कर्म के कारण नहीं होता. यह पिछले कर्म का परिणाम प्रतीत हो सकता है, लेकिन यह भक्त को सुधारने और उसे शुद्ध भक्ति सेवा में लाने के लिए किया जाता है.

अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी), “श्रीमद् भागवतम्”, पंचम सर्ग, अध्याय 08- पाठ 26

(Visited 20 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •