देवता सेवक होते हैं जो भगवान के परम व्यक्तित्व के सहायक होते हैं. यदि व्यक्ति देवताओं की उपासना करता है, तो देवता परम के सेवक होने के नाते यज्ञ के चढ़ावे को भगवान तक पहुँचाते हैं, जैसे कोई कर संग्राहक नागरिकों से कर संग्रह करके सरकारी ख़जाने में जमा कर देता है. देवता यज्ञ के चढ़ावे को स्वीकार नहीं कर सकते; वे यज्ञीय चढ़ावे को केवल भगवान के परम व्यक्तित्व तक पहुँचा देते हैं. जैसा कि श्रील विश्वनाथ चक्रवर्ती ठाकुर ने कहा है, यस्य प्रसादद भगवत्-प्रसादः : चूँकि गुरु भगवान के परम व्यक्तित्व का प्रतिनिधि होता है, उसे जो भी अर्पित किया जाए वह भगवान तक ले जाता है. उसी प्रकार, सभी देवता, परम भगवान के निष्ठावान सेवक होने के नाते, भगवान को वह सब हस्तांतरित कर देते हैं जो भी उन्हें यज्ञ में भेंट किया जाता है. इस समझ के साथ देवताओं की उपासना में कोई त्रुटि नहीं होती, लेकिन यह सोचना कि देवता भगवान के परम व्यक्तित्व से स्वतंत्र और उनके समकक्ष हैं, हृत ज्ञान, बुद्धि की हानि (कामैस तैस तैर हृत ज्ञानाः) कहलाता है. जो भी यह सोचता है कि देवता ही वास्तविक भोक्ता हैं वह गलत है.

अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी), श्रीमद् भागवतम्, पाँचवाँ सर्ग, अध्याय 20- पाठ 17

(Visited 14 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •