कृष्ण के प्रति सहज आकर्षण, जिसका कारण भगवान की असाधारण दया को माना जाता है, को दो शीर्षकों के अंतर्गत रखा जा सकता है. एक भगवान की महानता के प्रति गहरा सम्मान है, और दूसरा व्यक्ति का बिना किसी बाहरी प्रतिफल के कृष्ण के प्रति आकर्षित हो जाना हो सकता है. नारद-पंचरात्र में यह कहा गया है कि अगर परम भगवान की महानता के लिए गहन श्रद्धा हो, तो व्यक्ति उनके लिए एक महान स्नेह और स्थिर प्रेम अर्जित कर लेता है, व्यक्ति का वैष्णव मुक्ति के चार प्रकारों को अर्जित करना निश्चित है – अर्थात्, भगवान के समान ही शारीरिक गुणों को प्राप्त करना, भगवान के समान ही एश्वर्य प्राप्त करना, उस ग्रह में रहना जहाँ भगवान निवास करते हैं, और भगवान की शाश्वत संगति प्राप्त करना. वैष्णव मुक्ति, मायावाद मुक्ति से पूर्णतः भिन्न है, जो कि बस भगवान की दीप्ति में विलीन हो जाने का प्रसंग है. नारद-पंचरात्र में शुद्ध निष्काम भक्ति सेवा को व्यक्तिगत लाभ के किसी भी उद्देश्य के बिना बताया गया है. यदि भक्त निरंतर भगवान कृष्ण के प्रेम में हो और उसका चित्त सदैव उन पर स्थिर हो, तो ऐसा भक्तिमय व्यवहार भगवान का ध्यान आकर्षित करने वाला एकमात्र साधन सिद्ध होगा. दूसरे शब्दों में, एक वैष्णव जो भगवान कृष्ण के रूप नित्य चिंतन करता हो विशुद्ध वैष्णव कहलाएगा. सामान्यतः, एक भक्त, जिसने भक्ति सेवा के कड़ें नियमों और विनियमों का पालन करते हुए भगवान की अहेतुक दया को प्राप्त किया है, भगवान की सर्वोच्च महानता, भगवान की पारलौकिक सुंदरता और भक्ति सेवा के सहज निष्पादन से आकर्षित हो जाता है. अधिक स्पष्टता में, भक्ति सेवा के नियामक सिद्धांतों के निष्पादन द्वारा, व्यक्ति भगवान के पारलौकिक सौंदर्य के गुण को पूर्ण रूप से पहचान सकता है. किसी भी स्थिति में, इस प्रकार की उच्च स्थिति केवल भक्त पर भगवान की असाधारण दया से संभव हैं.

<span style=”color: #00CCFF;”>अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2011 संस्करण, अंग्रेजी), “भक्ति का अमृत”, पृ. 145</span>

(Visited 1 times, 1 visits today)