परम जीव की योजनाओं का शोध करने के स्थान पर, प्रकृति के नियमों को भगवान के नियमों के रूप में स्वीकार करने के स्थान पर, वैज्ञानिक मानसिकता, प्रकृति पर श्रेष्ठता पाने के लिए मानव मात्र को भगवान के स्थान पर रखना चाहती है. लेकिन जब हम इन गतिविधियों को पास से देखते हैं, तो हम देख सकते हैं कि स्वीकारे हुए दो लक्ष्य, ज्ञान और आनंद, बहुत वर्षों के प्रयास के बाद भी प्राप्त नहीं किए जा सके हैं. भौतिकवादी यह कहते हुए हमारे साथ धैर्य रखने के लिए शामिल हो जाते हैं, कि शीघ्र ही उत्तर मिल जाएगा और आनंद सभी के लिए उपलब्ध होगा. इस बीच हमें मुग्ध रखने के लिए, प्रचुर मात्रा में लुभावने तकनीकी उत्पाद हैं. यदि ऐसा हो कि हम प्रतीक्षा करते हुए मर जाएँ, तब भी वैज्ञानिक इस त्रासदी को स्वीकार नहीं करता, क्योंकि उसके लिए जीवन वैसे भी केवल एक आणविक विशिष्टता है. इसलिए असंवेदनशील मानव जीवन के मूल्यवान समय को नष्ट करते हैं, समय का ध्येय सभी प्रश्नों में से सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न का उत्तर खोजना है – “मैं कष्ट क्यों भोग रहा हूँ?” वास्तव में, वे यह भी स्वीकार नहीं करेंगे कि वे कष्ट भोग रहे हैं. इस प्रकार नष्ट किया गया जीवन एक कष्टकारी विरोधाभास बन जाता है जिसमें व्यतीत होने वाला प्रत्येक मिनट कष्ट बढ़ाता जाता है, जब तक कि शरीर अंततः कष्टमय भ्रांति में नष्ट हो जाता है.

स्रोत: अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2012, अंग्रेजी संस्करण), “कृष्ण चेतना का वैज्ञानिक आधार”, पृ. 48

(Visited 6 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •