संभोग स्त्री और पुरुष के बीच प्राकृतिक आकर्षण का काम करता है और जब वे विवाहित होते हैं, तो उनका संबंध और अधिक जुड़ जाता है. स्त्री और पुरुष के उलझन भरे संबंध के कारण भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है, जिससे व्यक्ति सोचता है, “यह पुरुष मेरा पति है,” या “यह स्त्री मेरी पत्नी है.” इसे हृदय-ग्रन्थि कहा जाता है, “हृदय में कड़ी गाँठ.” इस गाँठ को खोलना बहुत कठिन होता है, भले ही एक पुरुष और स्त्री या तो वर्णाश्रम के सिद्धांतों के लिए अलग हो जाएँ या बस तलाक लेने के लिए. कुछ भी हो, पुरुष हमेशा स्त्री के बारे में सोचता है, और स्त्री हमेशा पुरुष के विचारों में रहती है. इस प्रकार एक व्यक्ति भौतिक रूप से परिवार, संपत्ति और बच्चों से आसक्त हो जाता है, हालाँकि ये सभी अस्थायी होते हैं. संपत्ति रखने वाला दुर्भाग्य से अपनी संपत्ति और धन के साथ ही अपनी पहचान करता है. कभी-कभी, त्याग करने के बाद भी, व्यक्ति किसी मंदिर या कुछ ऐसी वस्तुओं के प्रति आसक्त होता है जो संन्यासी की संपत्ति होती हैं, लेकिन ऐसी आसक्ति उतनी सशक्त नहीं होती जितनी परिवार की आसक्ति. परिवार के प्रति आसक्ति सबसे शक्तिशाली भ्रम है. सत्यसंहिता में, यह कहा गया है: ब्रम्हद्य याज्ञवल्कद्य मुच्यंते स्त्री-सहायिनाः बोध्यंते केचनैतेषम् विशेषम च विदो विदुः कभी-कभी भगवान ब्रह्मा जैसे असाधारण व्यक्तित्वों के बीच यह पाया जाता है कि पत्नी और बच्चे बंधन का कारण नहीं होते हैं. इसके विपरीत, पत्नी वास्तव में आध्यात्मिक जीवन और मुक्ति में सहायता करती है. बहरहाल, अधिकांश लोग वैवाहिक संबंधों की गांठों से बंधे होते हैं, और फलस्वरूप वे कृष्ण के साथ अपने संबंध को भूल जाते हैं.

अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014, अंग्रेजी संस्करण), “श्रीमद्-भागवतम” पांचवाँ सर्ग, अध्याय 5 – पाठ 8

(Visited 17 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •