व्यापारी कभी-कभी कई दुर्लभ वस्तुओं का संचय करने और शहर में उन्हें अच्छे लाभ पर बेचने के लिए वन में जाते हैं, लेकिन वन का मार्ग हमेशा विपत्तियों से भरा होता है. जब शुद्ध आत्मा भौतिक संसार का आनंद लेने के लिए भगवान की सेवा छोड़ना चाहती है, तो कृष्ण निश्चित ही उसे भौतिक संसार में प्रवेश करने का अवसर देते हैं. जैसा कि प्रेमविवर्त में कहा गया है: कृष्ण-बहिर्मुख हन भोग वाच करे. यही कारण है कि शुद्ध आत्मा भौतिक संसार में पतित हो जाती है. भौतिक प्रकृति की तीन अवस्थाओं के प्रभाव में अपनी गतिविधियों के कारण, जीव विभिन्न प्रजातियों में विभिन्न स्थिति ग्रहण करते हैं. कभी-कभी वह स्वर्गीय ग्रहों में एक देवता होता है और कभी-कभी निम्न ग्रहों प्रणालियों में सबसे तुच्छ प्राणी होता है. इस संबंध में, श्रील नरोत्तम दास ठाकुर कहते हैं, नाना योनि सदा फिरे: जीव विभिन्न प्रजातियों से गुजरता है. कारदर्य भक्षण करे: वह घृणित चीजों को खाने और उनका आनंद लेने के लिए बाध्य होता है. तारा जन्म अधः-पतेय्या: इस प्रकार उसका पूरा जीवन नष्ट हो जाता है. सर्व-दयालु वैष्णव के संरक्षण के बिना, बद्ध आत्मा माया के चंगुल से बाहर नहीं निकल सकती. जैसा कि भगवद-गीता (मनः सष्टानिंद्रियाणि प्रकृति-स्थानि कर्षति), में कहा गया है, जीव अपने मन और पाँच ज्ञान प्राप्त करने वाली इंद्रियों के साथ भौतिक जीवन शुरू करते हैं, और इनके साथ वह भौतिक संसार के भीतर अस्तित्व के लिए संघर्ष करता है. इन इंद्रियों की तुलना वन के भीतर के बदमाशों और चोरों से की जाती है. वे एक मनुष्य के ज्ञान को छीन लेते हैं और उसे अज्ञानता के तंत्र में डाल देते हैं. इस प्रकार इंद्रियाँ दुष्टों और चोरों के जैसी हैं जो उसके आध्यात्मिक ज्ञान को लूट लेते हैं. इसके ऊपर, परिवार के सदस्य, पत्नी और बच्चे हैं, जो बिल्कुल वन के हिंसक पशुओं जैसे हैं. ऐसे हिंसक पशुओं की वृत्ति मनुष्च का मांस खाना होती है. जीव सियार और लोमड़ियों (पत्नी और बच्चों) द्वारा स्वयं पर आक्रमण होने देता है, और इस प्रकार उसका वास्तविक आध्यात्मिक जीवन समाप्त हो जाता है. भौतिक जीवन के वन में, हर कोई मच्छरों की तरह ईर्ष्या करता है, और चूहे और छछूंदर हमेशा व्यवधान पैदा करते हैं. इस भौतिक संसार में सभी कई अजीब स्थितियों में रखे गए हैं और वे ईर्ष्यालु लोगों और व्यवधान करने वाले प्राणियों से घिरे हुए हैं. परिणाम ये कि भौतिक संसार में जीव को कई जीवों द्वारा लूटा और कष्ट पहुँचाया जाता है. बहरहाल, इन गड़बड़ियों के बावजूद, वह अपने पारिवारिक जीवन को छोड़ना नहीं चाहता है, और वह भविष्य में प्रसन्न रहने के प्रयास में अपनी भ्रामक गतिविधियों को जारी रखता है. इस प्रकार वह कर्म के परिणामों में अधिक से अधिक उलझ जाता है, और इस प्रकार वह बलात् अपवित्र कार्य करने के लिए विवश हो जाता है. दिन के दौरान सूर्य और रात के दौरान चंद्रमा उसके साक्षी होते हैं. देवता भी साक्षी होते हैं, लेकिन बद्ध आत्मा सोचती है कि इंद्रिय तुष्टि के उसके प्रयासों को किसी के भी द्वारा नहीं देखा जा रहा है. कभी-कभी, जब उसे पकड़ लिया जाता है, वह अस्थायी रूप से सबकुछ त्याग देता है, लेकिन शरीर के प्रति उसकी महान आसक्ति के कारण, इससे पहले कि वह पूर्णता अर्जित कर सके, उसका त्याग छूट जाता है. इस भौतिक संसार में कई ईर्ष्यालु लोग हैं. कर-आरोपण करने वाली सरकार है, जिसकी तुलना उल्लू से की जाती है, और ऐसे अदृश्य झिंगूर हैं जो असहनीय ध्वनियाँ पैदा करते हैं. निश्चित ही बद्ध आत्मा को भौतिक प्रकृति के प्रतिनिधियों द्वारा बहुत कष्ट पहुँचाया जाता है, लेकिन अवांछनीय संगति के कारण उसकी बुद्धि खो जाती है. भौतिक अस्तित्व के व्यवधानों से मुक्ति पाने के प्रयास में, वह तथाकथित योगियों, साधुओं और अवतारों का शिकार बनता है, जो कुछ जादू दिखा सकते हैं, लेकिन जो भक्ति सेवा को नहीं समझते हैं. कभी-कभी बद्ध आत्मा समस्त धन से रहित हो जाता है, और परिणामस्वरूप वह अपने परिवार के सदस्यों के प्रति असहिष्णु हो जाता है. इस भौतिक संसार में लेश मात्र भी वास्तविक सुख नहीं है, जिसकी लालसा बद्ध आत्मा जन्म जन्मांतर तक करता रहता है. सरकारी अधिकारी मांसाहारी राक्षसों के समान हैं, जो सरकार के संचालन के लिए भारी कर लगाते हैं. इन भारी करों के कारण कड़ी मेहनत करने वाली बद्ध आत्मा बहुत दुखी हो जाती है. भ्रामक गतिविधियों का रास्ता कठिन पहाड़ों की ओर जाता है, और कभी-कभी बद्ध आत्मा इन पहाड़ों को पार करना चाहता है, लेकिन वह कभी सफल नहीं होता है, और परिणामस्वरूप वह अधिक से अधिक दुखी और निराश हो जाता है. भौतिक और आर्थिक रूप से लज्जित होने के कारण, बद्ध आत्मा अनावश्यक रूप से अपने परिवार को दंडित करता है. भौतिक अवस्था में चार मुख्य आवश्यकताएँ होती हैं, जिनमें से नींद की तुलना एक अजगर से की जाती है. सोते समय, तो बद्ध आत्मा अपने वास्तविक अस्तित्व को पूरी तरह से भूल जाता है, और नींद में वह भौतिक जीवन के कष्टों का अनुभव नहीं करता है. कभी-कभी, धन की आवश्यकता होने के कारण, बद्ध आत्मा चोरी और धोखाधड़ी करता है, हालाँकि वह स्पष्ट रूप से आध्यात्मिक उन्नति के लिए भक्तों के साथ जुड़ा हो सकता है. उसका एकमात्र व्यवसाय माया के चंगुल से निकलना है, लेकिन अनुचित मार्गदर्शन के कारण वह भौतिक व्यवहार में अधिक से अधिक उलझता जाता है. यह भौतिक संसार केवल लज्जाजनक है और सुख, संकट, लगाव, शत्रुता और ईर्ष्या के रूप में प्रस्तुत क्लेशों से निर्मित है. कुल मिलाकर यह बस क्लेश और दुख से भरा है. जब कोई व्यक्ति पत्नी और संभोग के प्रति आसक्ति के कारण अपनी बुद्धि खो देता है, तो उसकी संपूर्ण चेतना प्रदूषित हो जाती है. इस प्रकार वह केवल महिलाओं की संगति के बारे में विचार करता है. काल, जो सर्प के समान है, सभी का जीवन छीन लेता है, जिसमें भगवान ब्रह्मा और तुच्छ चींटी भी शामिल हैं. कभी-कभी बद्ध आत्मा स्वयं को अक्षम्य समय से बचाने का प्रयास करता है और इस प्रकार किसी छद्म उद्धारकर्ता की शरण ले लेता है. दुर्भाग्य से, छद्म उद्धारकर्ता स्वयं को भी नहीं बचा सकता है. फिर, वह दूसरों की रक्षा कैसे कर सकता है? छद्म उद्धारकों को योग्य ब्राह्मणों और वैदिक स्रोतों से प्राप्त ज्ञान की चिंता नहीं होती. उनका एकमात्र कार्य संभोग में लिप्त होना और विधवाओं के लिए भी यौन स्वतंत्रता का सुझाव देना है. इस प्रकार वे वैसे ही हैं जैसे वन में वानर होते हैं. इस प्रकार श्रील सुकदेव गोस्वामी महाराजा परीक्षित को भौतिक वन और उसके कठिन मार्ग के बारे में बताते हैं.

स्रोत: अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014, अंग्रेजी संस्करण), “श्रीमद्-भागवतम” पांचवाँ सर्ग, अध्याय 14 – परिचय

(Visited 13 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •