“सभी जीवों के हृदयों में प्रत्यक्ष साक्षी होने के कारण, भगवान कृष्ण अच्छे से समझ गए थे कि सुदामा उनसे मिलने क्यों आए थे. अतः उन्होंने सोचा, “”अतीत में मेरे मित्र ने कभी भी भौतिक ऐश्वर्य की इच्छा से मेरी पूजा नहीं की, लेकिन अब वह अपनी पवित्र और समर्पित पत्नी को संतुष्ट करने के लिए मेरे पास आता है. मैं उसे वह धन दूँगा जो अमर देवता भी प्राप्त नहीं कर सकते. ” किंतु व्यक्ति इस पर उंगली उठा सकता है कि सुदामा को इतना विपन्नता से पीड़ित नहीं होना चाहिए था, क्योंकि उचित आनंद भगवान की सेवा के उपोउत्पाद के रूप में आता है, यहाँ तक कि उस भक्त के लिए भी, जिसका कोई अप्रत्यक्ष उद्देश्य न हो. भगवद गीता (9.22) में इसकी पुष्टि की गई है:

अनन्याश चिन्तयंतो मां ये जनः पर्युपासते
तेषाम् नित्याभियुक्तानां योग-क्षेमं वहाम्य अहम

“”किंतु जो लोग हमेशा अनन्य भक्ति के साथ मेरी पूजा करते हैं, मेरे दिव्य रूप का ध्यान करते हैं – उनके पास जो कुछ भी कम होता है उसे मैं ले आता हूँ, और उसकी रक्षा करता हूँ जो भी उनके पास हो.””

इस बिंदु के उत्तर में, दो प्रकार के त्यागी भक्तों के बीच अंतर किया जाना चाहिए: एक प्रकार के भक्त इन्द्रियतृप्ति के लिए शत्रुवत होते हैं, और दूसरे इसके प्रति उदासीन होते है. यह जड़ भारत जैसे महान त्यागियों में देखा गया है. दूसरी ओर, भगवान एक ऐसे भक्त को असीमित धन और शक्ति दे सकते हैं जो न तो विकर्षित होता है और न ही भौतिक वस्तुओं से आकर्षित होता है, जैसे कि प्रह्लाद महाराज. अपने जीवन में इस बिंदु तक, सुदामा ब्राह्मण पूर्ण इन्द्रियतृप्ति के सर्वथा विरुद्ध थे, किंतु अब, अपनी निष्ठावान पत्नी के लिए करुणा वश- और इसलिए भी कि वह कृष्ण के दर्शकों को पाने के लिए लालायित थे – वे भगवान से भिक्षा माँगने गए.”

स्रोत:अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), श्रीमद् भागवतम्, दसवाँ सर्ग, अध्याय 81- पाठ 6-7

(Visited 8 times, 1 visits today)
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share