जीवित प्राणी अपनी पिछली गतिविधियों के संदर्भ में आनुपातिक रूप से बुद्धि संपन्न होते हैं. सभी जीव समान रूप से बुद्धिमत्ता के गुणों से संपन्न नहीं हैं क्योंकि बुद्धिमत्ता के ऐसे विकास के पीछे भगवान का नियंत्रण है, जैसा कि भगवद्-गीता (15.15) में घोषित किया गया है. परमात्मा के रूप में, भगवान सभी के हृदय में रह रहे हैं, और उनसे ही व्यक्ति की स्मृति, ज्ञान और विस्मृति की शक्ति आती है. कोई व्यक्ति भगवान की कृपा से पिछली गतिविधियों को कुशलता से याद कर सकता है जबकि अन्य ऐसा नहीं कर सकते. भगवान की कृपा से व्यक्ति अत्यधिक बुद्धिमान होता है, और उसी नियंत्रण से मूर्ख होता है. इसलिए भगवान धियम-पति, या बुद्धि के स्वामी हैं. बद्ध आत्माएँ भौतिक जगत का स्वामी बनने का प्रयास करती हैं. हर कोई अपनी उच्चतम स्तर की बुद्धि का उपयोग करके भौतिक प्रकृति के ऊपर प्रभुत्व स्थापित करने का प्रयास कर रहा है. बद्ध आत्मा द्वारा बुद्धि के इस दुरुपयोग को पागलपन कहा जाता है. भौतिक चंगुल से मुक्त होने के व्यक्ति की पूर्ण बुद्धि का उपयोग किया जाना चाहिए. लेकिन बद्ध आत्मा, केवल पागलपन के कारण, अपनी पूरी ऊर्जा और बुद्धि का उपयोग इंद्रिय संतुष्टि में करती है, और जीवन के इस अंत को प्राप्त करने के लिए वह सभी प्रकार के कुकर्म करती है. परिणाम यह है कि बंधन रहित पूर्ण स्वतंत्र जीवन पाने के स्थान पर, पागल बद्ध आत्मा भौतिक शरीरों में रहते हुए विभिन्न प्रकार के बंधन में बार-बार उलझ जाती है. भौतिक रचना में हम जो कुछ भी देखते हैं वह भगवान की रचना है. इसलिए ब्रह्मांड में सब कुछ के वास्तविक स्वामी वे ही हैं. बद्ध आत्मा भगवान के नियंत्रण में इस भौतिक रचना के एक अंश का आनंद तो ले सकती है, लेकिन आत्मनिर्भर होकर नहीं. ईसोपनिषद में यही निर्देश है. व्यक्ति को ब्रह्मांड के स्वामी द्वारा प्रदान की गई वस्तुओं से संतुष्ट होना चाहिए. यह केवल पागलपन के कारण है कि व्यक्ति किसी अन्य के हिस्से की भौतिक संपत्ति पर अतिक्रमण करने का प्रयास करता है.

स्रोत: अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014, अंग्रेजी संस्करण), “श्रीमद्-भागवतम” दूसरा सर्ग, अध्याय 4- पाठ 20

(Visited 4 times, 1 visits today)
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share