श्राद्ध वेदों के अनुयायियों द्वारा मनाया जाने वाला एक कर्मकांड है. पंद्रह दिनों की अवधि का एक वार्षिक अवसर होता है जब कर्मकांडी धर्मवादी दिवंगत आत्माओं को हव्य भेंट करने के सिद्धांत का पालन करते हैं. इस प्रकार वे पिता और पूर्वज, जो प्रकृति के गुणों के कारण भौतिक भोग के लिए स्थूल शरीर नहीं धारण कर सकते, अपने वंशजों द्वारा श्राद्ध के तर्पण के कारण फिर से ऐसे शरीर प्राप्त कर सकते हैं. श्राद्ध का निष्पादन, या प्रसाद के साथ हव्य अर्पण करना, भारत में अभी भी मौजूद है, विशेषकर गया में, जहाँ हव्य एक प्रसिद्ध मंदिर में विष्णु के चरण कमलों पर अर्पित किए जाते हैं. चूँकि भगवान इस प्रकार वंशजों की भक्ति सेवा से प्रसन्न होते हैं, अपनी कृपा से वह उन पूर्वजों की दण्डित आत्माओं को मुक्त कर देते हैं जिनके पास स्थूल शरीर नहीं है, और वे उनकी आध्यात्मिक उन्नति के विकास के लिए फिर से एक स्थूल शरीर प्राप्त करने में उनका पक्ष लेते हैं. दुर्भाग्यवश, माया के प्रभाव से, बद्ध आत्मा प्राप्त किए हुए शरीर को इंद्रिय तुष्टि में संलग्न कर लेती है, यह भूलकर कि इस प्रकार के व्यवहार से उसे एक अदृश्य शरीर में वापस जाना पड़ सकता है. यद्यपि, भगवान के भक्त, या जो कृष्ण चेतना में है, उसे श्राद्ध के रूप में इस प्रकार के अनुष्ठान करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि वह हमेशा परम भगवान को प्रसन्न करता है; इसलिए उसके पिता और पूर्वज जो संकट में पड़ गए थे, उन्हें स्वयमेव कष्ट से मुक्ति मिल जाती है. एक विविध उदाहरण प्रह्लाद महाराज हैं. प्रह्लाद महाराजा ने भगवान नृसिंहदेव से अपने पापी पिता का उद्धार करने का अनुरोध किया, जिन्होंने कई बार भगवान के चरण कमलों का अपमान किया था. भगवान ने उत्तर दिया कि जिस परिवार में प्रह्लाद जैसे वैष्णव का जन्म हुआ है, न केवल उसके पिता बल्कि उनके पिता के पिता और उनके पिता – चौदहवें पिता तक – सभी का स्वतः ही कल्याण होगा. इसलिए, निष्कर्ष यह है कि कृष्ण चेतना परिवार के लिए, समाज के लिए और सभी जीवों के लिए समस्त अच्छे कार्यों का कुल योग है. चैतन्य-चरितामृत में लेखक कहता है कि कृष्ण चेतना में पूर्ण रूप से निपुण व्यक्ति कोई भी अनुष्ठान नहीं करता है क्योंकि वह जानता है कि कृष्ण की पूर्ण चेतना में सेवा करने से, सभी अनुष्ठान स्वतः ही संपन्न हो जाते हैं.

स्रोत: अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014, अंग्रेजी संस्करण), “श्रीमद्-भागवतम” तीसरा सर्ग, अध्याय 20 – पाठ 43

(Visited 59 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •