मानव समाज में बंधुत्व धीरे-धीरे विकसित होता है -स्वयं के प्रति प्रेम से परिवार के प्रति प्रेम; परिवार के प्रति प्रेम से समाज के लिए प्रेम; समाज के प्रति प्रेम से राष्ट्र के प्रति प्रेम, और राष्ट्र के प्रति प्रेम से अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के प्रति प्रेम. और इस धीमी प्रक्रिया में, हमेशा आकर्षण को कोई केंद्र होता है जो हमारे प्रेम की सहायता प्रगति करने और एक अवस्था से दूसरी अवस्था तक पहुँचने में करता है. हालांकि हम यह नहीं जानते, कि इस बंधुत्व के विकास में आकर्षण का केंद्र न तो परिवार, न ही समाज, ना राष्ट्र, और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय भी नहीं होता, बल्कि सर्वव्याप्त भगवान, विष्णु होते हैं. यह अज्ञान भौतिक आवरण, परम सत्य की मायावी ऊर्जा के कारण होता है. महान भक्त प्रह्लाद महाराज पुष्टि करते हैं कि सामान्यतः नहीं जानते कि उनके आकर्षण के केंद्र भगवान के परम व्यक्तित्व विष्णु हैं. और विष्णु की श्रेणी में श्री कृष्ण परम आकर्षण हैं. शामिल सिद्धांतों को बेहतर समझने के लिए उदाहणरार्थ हम अपने आसपास के क्षुद्र संबंधों को देख सकते हैं, हमारी बहन का पति, जो उससे विवाह करने से पहले हमसे अपरिचित रहा हो, लेकिन हमारा जीजा बन जाता है — बस उसके साथ साझा केंद्रीय संबंधों के गुण द्वारा और उस साझा संबंध के कारण, पूर्व में अनजान व्यक्ति के पुत्र और पुत्री हमारे भांजे भांजियाँ बन जाते हैं. पुनः, हमारी बहन आकर्षण का केंद्र बन जाती है. उसी प्रकार, यदि हम हमारे देश को आकर्षण का केंद्र बनाते हैं, तो हम स्वयं को किसी सीमित और विभाजनकारी राष्ट्रीय पहचान, जैसे “बंगाली”, “पंजाबी”, या “अंग्रेज” से बंध जाते हैं. या, जब हम किसी विशेष धर्म या संप्रदाय पर आस्था दिखाते हैं और उसे आकर्षण का केंद्र बनाते हैं, तो हम फिर से स्वयं को किसी सांप्रदायिक पहचान, जैसे “हिंदू”, “मुस्लिम”, या “ईसाई” से बांध लेते हैं. इस प्रकार हम किसी ऐसे आकर्षण के केंद्र को चुन लेते हैं जिसे अन्य बहुत से लोग हमारे साथ साझा नहीं कर सकते – क्योंकि उनके लिए, हमारा आकर्षण का केंद्र बिलकुल भी आकर्षक नहीं है. एक दूसरे के साथ हमारा संबंध केवल तभी संपूर्ण हो सकता है जब हम कृष्ण को हमारे आकर्षण का केंद्र बना लें, जो भगवान के परम आकर्षक व्यक्तित्व हैं. विधान द्वारा, हम सभी अनंत काल से कृष्ण से संबंधित हैं, जो मूल जीव हैं और इस प्रकार समस्त आकर्षण के केंद्र हैं. इसलिए हमें इस संबंध को पुनर्जीवित करना है, जो माया की आवरणकारी प्रक्रिया के कारण विस्मृति में विलीन हो गया है, वह भ्रामक ऊर्जा जिसने अस्थायी विस्मृति को विकसित किया है. इसलिए कृष्ण के साथ हमारे अमर संबंध का पुनरुज्जीवन शुरू करने के लिए, हमें कर्म-योग को अपनाना चाहिए, जो ऐसे पारलौकिक बोध का पहला चरण है.

<span style=”color: #00CCFF;”>अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2012 संस्करण, अंग्रेजी), “परम भगवान का संदेश”, पृ. 42 और 43</span>

(Visited 34 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •