“भगवान कृष्ण आध्यात्मिक आत्म-संतुष्टि के मुक्त स्तर पर व्यवहार करते हैं. इस तथ्य को आत्मा-रत, आत्माराम और अखंडित शब्दों से इंगित किया जाता है. सामान्य व्यक्तियों के लिए यह अकल्पनीय होता है कि एक सुंदर युवक और युवती जो वन की चांदनी रात में दांपतिक संबंध का आनंद ले रहे हों, वे अहंकारी कामना और वासना से मुक्त किसी शुद्ध कर्म में लीन हो सकते हैं. जबकि भगवान कृष्ण सामान्य व्यक्तियों के लिए अकल्पनीय हैं, जो लोग उनसे प्रेम करते हैं वे सरलता से उनकी गतिविधियों की पूर्ण, शुद्ध प्रकृति को अनुभूत कर सकते हैं.

कोई यह तर्क दे सकता है कि “”सुंदरता देखने वाले की आँखों में होती है”” और इसलिए कृष्ण के भक्त भगवान की गतिविधियों के शुद्ध होने की केवल कल्पना कर रहे हैं. यह तर्क कई महत्वपूर्ण तथ्यों की अनदेखी करता है. पहला, कृष्ण के लिए प्रेम विकसित करने वाला, कृष्ण चेतना का मार्ग, मांग करता है कि किसी भक्त को चार नियामक सिद्धांतों का कड़ाई से पालन करना चाहिए : अनैतिक मैथुन नहीं, कोई जुआ नहीं, कोई नशा नहीं और मांस, मछली या अंडे का सेवन नहीं करना. जब कोई भौतिक वासना से मुक्त होता है और मुक्त धरातल पर, भौतिक इच्छा से परे, उठ जाता है, तो उसे भगवान कृष्ण की पूर्ण सुंदरता का अनुभव होता है. यह प्रक्रिया सैद्धांतिक नहीं है: इसका अभ्यास कई सहस्त्र महान संतों द्वारा किया गया है और पूरा किया गया है, जिन्होंने हमारे लिए कृष्ण चेतना के पथ के बारे में अपने प्रकाशमान उदाहरण और दीप्तिमान शिक्षाएँ पीछे छोड़ी हैं.

निस्संदेह सुंदरता देखने वाले की आँखों में होती है. यद्यपि वास्तविक सुंदरता को आत्मा के नेत्रों से देखा जाता है, न कि भौतिक शरीर की वासनामयी आँख से. इसलिए वैदिक साहित्य बार-बार इस बात पर बल देता है कि केवल भौतिक इच्छा से मुक्त लोग ही भगवान कृष्ण की सुंदरता को शुद्ध आत्मा की आँखों से देख सकते हैं, जो भगवान के प्रेम से अभिषेक करते हैं. अंततः दर्ज किया जा सकता है कि भगवान कृष्ण की लीलाओं का अनुभव करने पर व्यक्ति यौन इच्छा के स्वाद से सभी प्रकार से मुक्त हो जाता है, मन की वह स्थिति जो भौतिक यौन प्रसंगों पर ध्यान करने से शायद ही उत्पन्न हो सके.

कृष्ण की दाम्पतिक लीलाएं परम निरपेक्ष सत्य के रूप में उनकी योग्यता को पूरी तरह से समाप्त कर देती हैं. वेदांत में कहा गया है कि पूर्ण सत्य ही सब कुछ का स्रोत है, इसलिए निश्चित रूप से परम को इस संसार की किसी भी सुंदर वस्तु की कमी नहीं हो सकती है. यह परम में शुद्ध, आध्यात्मिक रूप में प्रेममयी प्रसंग अस्तित्वमान केवल इसलिए है कि वे इस संसार में एक विकृत, भौतिक रूप में प्रकट हो सकते हैं. अतः इस संसार की प्रत्यक्ष सुंदरता का पूर्ण रूपेण तिरस्कार नहीं किया जाना चाहिए; बल्कि, सुंदरता को उसके शुद्ध, आध्यात्मिक रूप में स्वीकार किया जाना चाहिए.

आदिकाल से ही स्त्री-पुरुष प्रेम की कला द्वारा काव्य-उत्साह के लिए प्रेरित होते रहे हैं. दुर्भाग्य से, इस संसार में प्रेम सामान्यतः निराशा की ओर ले जाता है, जो हृदय परिवर्तन या मृत्यु के कारण घटित होता है. इस प्रकार, यद्यपि हम पहले-पहल प्रेममयी प्रसंगों को सुंदर और आनंददायक पाते हैं, वे अंततः भौतिक प्रकृति के प्रभाव से विकृत हो जाते हैं. फिर भी, प्रेम की अवधारणा को पूरी तरह से तिरस्कृत करना अनुचित है. इसके स्थान पर, हमें दांपतिक आकर्षण को उसके पूर्ण, शुद्ध रूप में स्वीकार करना चाहिए, क्योंकि यह भौतिक वासना या स्वार्थ के बिना, भगवान के भीतर अस्तित्वमान है.”

स्रोत:अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), श्रीमद् भागवतम्, दसवाँ सर्ग, अध्याय 30- पाठ 34

(Visited 18 times, 1 visits today)
  • 4
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    4
    Shares