वैदिक साहित्य न केवल आध्यात्मिक निर्देशों से परिपूर्ण है बल्कि उसमें यह मार्गदर्शन भी मिलता है कि आध्यात्मिक उत्कृष्टता के अंतिम लक्ष्य के साथ, भौतिक अस्तित्व का निर्वहन भली प्रकार से कैसे किया जाए. इसलिए, देवाहुति ने अपने पति से प्रश्न किया, कि वैदिक निर्देशों के अनुसार स्वयं को यौन जीवन के लिए कैसे तैयार करें. यौन जीवन का विशेष उद्देश्य अच्छी संतानें प्राप्त करना है. अच्छी संतानों को रचने की परिस्थितियों का वर्णन काम-शास्त्र में किया गया है, वह ग्रंथ जिसमें तथ्यात्मक रूप से वैभवशाली यौन जीवन के लिए उपयुक्त व्यवस्थाएँ निर्धारित की गई हैं. ग्रंथ में आवश्यक सभी बातों का उल्लेख किया गया है–घर और सजावट कैसी होनी चाहिए, पत्नी की पोशाख किस प्रकार की होनी चाहिए, उसे लेपों, सुगंध और अन्य आकर्षक वस्तुओं से कैसे सजना चाहिए, इत्यादि. इन आवश्यकताओं के पूरी होने पर, पति उसके सौंदर्य से आकर्षित होगा, और एक अनुकूल मानसिक अवस्था का निर्माण होगा. यौन जीवन के समय मानसिक स्थिति को पत्नी के गर्भ में स्थानांतरित किया जा सकता है, और उस गर्भावस्था से अच्छी संतानें मिल सकती हैं. यहाँ देवाहुति के शारीरिक लक्षणों का विशेष उल्लेख है. चूँकि वह बहुत दुबली हो चुकी थी, उसे भय था कि हो सकता है कर्दम को उसके शरीर से कोई आकर्षण न हो. वह इस बारे में निर्देश चाहती थी कि अपने पति को आकर्षित करने के लिए वह अपनी शारीरिक स्थिति में कैसे सुधार करे. वह संभोग जिसमें पति, पत्नी की ओर आकर्षित होता है, वहाँ पुरुष संतान उत्पन्न होना सुनिश्चित है, लेकिन पति के लिए पत्नी के आकर्षण के आधार पर संभोग होने से बालिका जन्म ले सकती है. आयर्वेद में इसका उल्लेख है. जब स्त्री का आवेग अधिक होता है, तो बालिका के जन्म लेने की संभावना होती है. जब पुरुष की उत्कंठा अधिक होती है, तब पुत्र की संभावना होती है. देवाहुति काम-शास्त्र में उल्लिखित व्यवस्था द्वारा अपने पति की उत्कंठा को बढ़ाना चाहती थी. वह चाहती थी कि उसे उसका पति इस विधि से निर्देश दे, और उसने यह अनुरोध भी किया कि वह एक अनुकूल घर की व्यवस्था भी करे क्योंकि जिस आश्रम में कर्दम मुनि रहते थे वह बहुत साधारण था और वह स्थान सात्विक था, और वहाँ उसके हृदय में कामातुरता के जागृत होने की संभावना कम थी.

स्रोत: ए। सी। भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (२०१४ संस्करण), "श्रीमद्भागवतम्", दूसरा कैंटो, अध्याय ११ - पाठ ११
(Visited 19 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •