“वैदिक परंपरा के छः परंपरागत दर्शनों – सांख्य, योग, न्याय, वैषेशिक, मीमांसा और वेदांत – में से केवल बादरायण व्यास का वेदांत ही दोषरहित है, और वह भी, जैसा कि प्रामाणिक वैष्णव आचार्यों द्वारा उचित विधि से वर्णित किया गया है. तब भी छह शाखाओं में से प्रत्येक, वैदिक शिक्षा में कुछ न कुछ व्यावहारिक योगदान करता है: नास्तिक सांख्य सूक्ष्म से स्थूल तक प्राकृतिक तत्वों के विकास की व्याख्या करता है, पतंजलि का योग ध्यान की अष्टांगिक विधि का वर्णन करता है, न्याय तर्क की तकनीकों को निर्धारित करता है, वैशेषिक वास्तविकता की आधारभूत आध्यात्मिक श्रेणियों पर विचार करता है, और मीमांसा शास्त्रीय व्याख्या के मानक उपकरण स्थापित करता है. इन छहों के अलावा, बौद्ध, जैन और चार्वाक के अधिक विमार्गी दर्शन भी हैं, जिनके शून्यवाद और भौतिकवाद के सिद्धांत शाश्वत आत्मा की आध्यात्मिक अखंडता को नकारते हैं.

अंततः, ज्ञान का एकमात्र पूर्ण रूप से विश्वसनीय स्रोत स्वयं परमेश्वर है. भगवान का परम व्यक्तित्व अवबोध-रस, अमिट दृष्टि का अनंत भंडार है. जो लोग पूर्ण विश्वास के साथ उन पर निर्भर हैं, उन्हें वे ज्ञान का दिव्य नेत्र प्रदान करते हैं. अन्य को, अपने स्वयं के अनुमानित सिद्धांतों का पालन करते हुए, माया के धुँधले पर्दे के माध्यम से सत्य को पकड़ना पड़ता है.”

स्रोत:अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), श्रीमद् भागवतम्, दसवाँ सर्ग, अध्याय 87 – पाठ 25

(Visited 6 times, 1 visits today)
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share