मिथ्या अहंकार सूक्ष्म चित्त और स्थूल भौतिक शरीर के साथ विशुद्ध आत्मा की भ्रामक पहचान होता है। इस भ्रामक पहचान के कारण, बद्ध आत्मा खोई हुई वस्तुओं के लिए शोक, अर्जित वस्तुओं के लिए आनंद, अमंगलकारी वस्तुओं के लिए भय, अपनी कामनाओं की निराशा पर क्रोध, और इंद्रिय तुष्टि के लिए लोभ का अनुभव करता है। और इस प्रकार, इस तरह के झूठे आकर्षण और द्वेष से मोहित होकर, बद्ध आत्मा को उत्तरोत्तर भौतिक शरीरों को स्वीकार करना पड़ता है, जिसका अर्थ है कि उसे बार-बार जन्म और मृत्यु को पार करना पड़ता है। जो व्यक्ति आत्म-साक्षात्कारी होता है वह जानता है कि ऐसी सभी सांसारिक भावनाओं का ऐसी शुद्ध आत्मा से कोई प्रयोजन नहीं होता है, जिसकी स्वाभाविक प्रवृत्ति भगवान की प्रेममयी सेवा में संलग्न होने की होती है।

स्रोत – अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), “श्रीमद भागवतम”, ग्यारहवाँ सर्ग, अध्याय 28 – पाठ 15

(Visited 19 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •