“महान पुराण के दस विषयों का वर्णन श्रीमद-भागवतम (2.10.1) के दूसरे सर्ग में भी किया गया है:

श्रीशुक उवाच
अत्र सर्गो विसर्गश्च स्थानं पोषणमूतय: ।
मन्वन्तरेशानुकथा निरोधो मुक्तिराश्रय: ॥

“श्री शुकदेव गोस्वामी ने कहा: श्रीमद-भागवतम में निम्न के संबंध में कथनों के दस भाग हैं: बह्मांड की रचना, उप-रचना, ग्रह प्रणाली, भगवान द्वारा सुरक्षा, रचनात्मक प्रेरणा, मनुओं का परिवर्तन, भगवान का विज्ञान, घर लौटना (परम भगवान की ओर वापसी), मुक्ति और परमार्थ।”

श्रील जीव गोस्वामी के अनुसार, श्रीमद-भागवतम जैसे पुराण इन दस विषयों के बारे में व्यवहार करते हैं, जबकि निम्मतर पुराण केवल पाँच पर विचार करते हैं। जैसाकि वैदिक साहित्य में कहा गया है:

सर्गस् च प्रतिसर्गस् च वंशो मन्वंतराणि च
वंशानुचरितं चेति पुराणं पंच-लक्षणम

“रचना, उप-रचना, राजाओं के वंश, मनुओं के शासन और विभिन्न राजवंशों की गतिविधियाँ पुराण की पाँच विशेषताएँ होती हैं।” पाँच श्रेणियों को समाहित करने वाले पुराणों को द्वितीय स्तर का पौराणिक साहित्य समझा जाता है।

श्रील जीव गोस्वामी ने समझाया है कि श्रीमद-भागवतम के दस मुख्य विषय बारह में से प्रत्येक सर्ग में पाए जाते हैं। व्यक्ति को दस में से प्रत्येक विषय को किसी विशेष सर्ग से जोड़ने का प्रयास नहीं करना चाहिए। न ही यह दिखाने के लिए श्रीमद-भागवतम की कृत्रिम व्याख्या की जानी चाहिए कि यह क्रमिक रूप से विषयों का निरूपण करती है। सरल तथ्य यह है कि ऊपर वर्णित दस श्रेणियों में संक्षेपित, मानव के लिए महत्वपूर्ण ज्ञान के समस्त पक्षों का वर्णन विभिन्न स्तरों पर बल देकर और विश्लेषण के साथ श्रीमद-भागवतम में किया गया है।

अठारह मुख्य पुराण हैं ब्रह्म, पद्म, विष्णु, शिव, लिंग, गरुड़, नारद, भागवत, अग्नि, स्कंद, भविष्य, ब्रह्मा-वैवर्त, मार्कंडेय, वामन, वराह, मत्स्य, कूर्म और ब्रह्मांड पुराण।

ब्रह्म पुराण में दस हज़ार श्लोक हैं, पद्म पुराण में पचपन हज़ार, श्री विष्णु पुराण में तेईस हज़ार, शिव पुराण में चौबीस हज़ार और श्रीमद-भागवतम में अठारह हज़ार श्लोक हैं। नारद पुराण में पच्चीस हज़ार श्लोक हैं, मार्कण्डेय पुराण में नौ हज़ार, अग्नि पुराण में पंद्रह हज़ार चार सौ, भविष्य पुराण में चौदह हज़ार पाँच सौ, ब्रह्म-वैवर्त पराण में अठाहरह हज़ार और लिंग पुराण में इक्यासी हज़ार एक सौ, वामन पुराण में दस हज़ार, कूर्म पुराण में सत्रह हज़ार, मत्स्य पुराण में चौदह हज़ार, गरुड़ पुराण में उन्नीस हज़ार और ब्रह्मांड पुराण में बारह हज़ार श्लोक हैं। इस प्रकार सभी पुराणों के श्लोकों की संख्या चार लाख है. एक बार पुनः, इनमें से अठारह हज़ार का संबंध सुंदर भागवतम से है।

“अठारह पुराणों को पूरा करने के बाद, सत्यवती के पुत्र, व्यासदेव ने समस्त महाभारत को संयोजित किया, जिसमें सभी पुराणों का सार समाहित है। इसमें एक लाख से अधिक श्लोक हैं और यह वेदों के सभी विचारों से परिपूर्ण है। वाल्मीकि द्वारा कही गई भगवान रामचंद्र की लीलाओं का वर्णन – एक अरब श्लोकों में मूल रूप से भगवान बह्मा द्वारा संबद्ध किया गया वर्णन- भी मिलता है। रामायण को बाद में नारद ने संक्षेपित किया और वह वाल्मीकि से संबद्ध हुई, जिन्होंने उसे आगे मानवमात्र को प्रस्तुत किया ताकि मानव धार्मिकता, इंद्रिय तुष्टि और आर्थिक विकास के लक्ष्यों को पा सकें। सभी पुराणों और इतिहासों के श्लोकों की कुल संख्या इस प्रकार मानव समाज में 525,000 की मात्रा में जानी जाती है। ”

स्रोत – अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), “श्रीमद भागवतम”, बारहवाँ सर्ग, अध्याय 7 – पाठ 9-10 व 23-24, अध्याय 13 – पाठ 4- 9.

(Visited 15 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •