यौन जीवन में, अभिभावकों से पदार्थ का संगम, जिसमें पायसीकरण और स्राव, शामिल होते हैं, वह परिस्थिति निर्मित करता है जहाँ आत्मा को पदार्थ के भीतर प्राप्त किया जाता है, और पदार्थ का संगम धीरे-धीरे संपूर्ण शरीर में बदल जाता है. समान सिद्धांत ब्रम्हांडीय सृष्टि में भी अस्तित्वमान होता है: सामग्री उपलब्ध थी, लेकिन केवल जब भगवान ने सामग्री में प्रवेश किया तभी वास्तव में पदार्थ सक्रिय हुआ. यही सृष्टि का कारण है. इसे हम अपने सामान्य अनुभवों में देख सकते हैं. चाहे हमारे पास मिट्टी, पानी और अग्नि हो, लेकिन ये तत्व ईंट का आकार केवल तभी लेते हैं जब हम उन्हें मिलाने का परिश्रम करते हैं. बिना जीवित ऊर्जा के, पदार्थ के आकार लेने की कोई संभावना नहीं होती. इसी प्रकार यह भौतिक संसार तब तक विकसित नहीं होता जब तक कि उसे विराट-पुरुष के रूप में भगवान सक्रिय नहीं करते. यस्मद् उदतिष्ठद् असौ विराट: उसके उद्दीपन द्वारा, आकाश की रचना की गई, और भगवान का सार्वभौमिक रूप भी ऐसे ही प्रकट हुआ.

अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण – अंग्रेजी), “श्रीमद् भागवतम्”, तृतीय सर्ग, अध्याय 26 – पाठ 51

(Visited 2 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •