“अजामिल ने अपने पुत्र का नाम नारायण रखा था, और चूँकि वह बालक को बहुत स्नेह करता था, वह उसका नाम बार-बार लेता था. हालाँकि वह अपने बेटे को पुकार रहा था, लेकिन नाम ही शक्तिशाली था क्योंकि नारायण नाम परम भगवान नारायण से अलग नहीं है. जब अजामिल ने अपने बेटे का नाम नारायण रखा, तो उसके पापपूर्ण जीवन की सभी प्रतिक्रियाएँ प्रभावहीन हो गईं, और जब उसने अपने पुत्र को पुकारना और इस तरह नारायण के पवित्र नाम का जाप सहस्त्रों बार करना जारी रखा, वास्तव में वह अनजाने में कृष्ण चेतना में प्रगति कर रहा था.

कोई यह तर्क दे सकता है, “”चूँकि वह लगातार नारायण के नाम का जाप कर रहा था, इसलिए उसके लिए एक वेश्या से संबंध रखना और शराब के बारे में सोचना कैसे संभव था?”” अपने पाप कर्मों के द्वारा वह बार-बार स्वयं को ही पीड़ित कर रहा था, और इसलिए कोई यह कह सकता है कि नारायण का परम जप ही उसके मुक्त होने का कारण था. यद्यपि, तब उसका जप नाम-अपराध होता. नमो बलात् यस्य हि पाप-बुद्धिः वह जो पापमय कृत्य करते रहता है और पवित्र नाम का जाप करके अपने पापों को प्रभावहीन बनाने का प्रयास करता है वह नाम-अपराधी, पवित्र नाम के प्रति अपराधी होता है. इसके उत्तर में यह कहा जा सकता है कि अजामिल का जप निष्कपट था क्योंकि उसने अपने पापों का प्रतिकार करने के उद्देश्य से नारायण के नाम का जप नहीं किया था. वह नहीं जानता था कि वह पापमय कार्यों का आदी था, और न ही वह जानता था कि नारायण के नाम का जाप उन्हें प्रभावहीन कर रहा है. अतः उसने नाम-अपराध नहीं किया, और अपने पुत्र को पुकारते हुए नारायण के पवित्र नाम का बार-बार उच्चारण करने को शुद्ध जप कहा जा सकता है.

इस शुद्ध जप के कारण, अजामिल ने अनजाने में भक्ति के परिणामों को संचित किया. निस्संदेह, उसके द्वारा किया गया पवित्र नाम का पहला उच्चारण ही उसके जीवन की सभी पापमय प्रतिक्रियाओं को निष्प्रभावी करने के लिए पर्याप्त था. एक तार्किक उदाहरण देने के लिए, एक अंजीर का पेड़ तुरंत फल नहीं देता है, लेकिन समय के साथ उसमें फल उपलब्ध होते हैं. इसी प्रकार अजामिल की भक्ति सेवा में धीरे-धीरे वृद्धि हुई, और इसलिए भले ही उसने पापमय कृत्य किए थे, उसके परिणामों ने उसे प्रभावित नहीं किया. शास्त्रों में कहा गया है कि यदि कोई भगवान के पवित्र नाम का एक बार भी जाप करता है, तो भूत, वर्तमान या भविष्य के पापमय जीवन की प्रतिक्रियाएँ उस पर प्रभाव नहीं डालती हैं. एक और उदाहरण देने के लिए, यदि कोई नाग के विषदंत को निकालता है, तो वह नाग के भविष्य के पीड़ितों को विष के प्रभाव से बचाता है, भले ही नाग बार-बार काटता हो. इसी प्रकार, यदि कोई भक्त पवित्र नाम का अहानिकारक रूप से एक बार भी जाप करता है, तो यह उसकी रक्षा सदैव करता है. उसे समय के साथ केवल जप का परिणाम देखने की प्रतीक्षा करनी है.”

अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी), “श्रीमद् भागवतम्”, छठा सर्ग, अध्याय 2- पाठ 49

(Visited 11 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •