“ऐसा निश्चित रूप से पवित्र गतिविधियों का परिणाम होता है कि व्यक्ति स्वर्गीय ग्रहों पर जन्म लेता है, लेकिन तब भी वहाँ से व्यक्ति को फिर से पृथ्वी पर आना ही पड़ता है, जैसा कि भगवद्-गीता में कहा गया है (क्षीणे पुण्ये मर्त्यलोकम् विशन्ति). यहाँ तक कि देवताओं को भी सामान्य व्यक्ति के जैसे कार्य करने के लिए पृथ्वी पर लौटना पड़ता है जब उनकी पवित्र गतिविधियों के परिणाम समाप्त हो जाते हैं. फिर भी यदि उनकी पवित्र गतिविधियों का थोड़ा भाग भी शेष रहे, तो देवता भारत-वर्ष की भूमि आने की कामना करते हैं. दूसरे शब्दों में, भारत-वर्ष में जन्म लेने के लिए, व्यक्ति को देवताओं की अपेक्षा अधिक पवित्र गतिविधियाँ करनी होती हैं. भारत-वर्ष में व्यक्ति सहज रूप से कृष्ण चैतन्य होता है, और यदि व्यक्ति अपनी कृष्ण चेतना को और भी विकसित करता है, तो कृष्ण की कृपा से वह कृष्ण चेतना में प्रवीण बन कर और बहुत सरलता से वापस घर, परम भगवान के पास लौटकर अपने सौभाग्य को निश्चित ही विस्तृत कर लेता है. वैदिक साहित्य में कई अन्य स्थानों पर ऐसा पाया जाता है कि देवता भी भारत-वर्ष की इस भूमि पर आना चाहते हैं. कोई मूर्ख व्यक्ति अपनी पवित्र गतिविधियों के परिणाम स्वरूप स्वर्गीय ग्रहों पर उन्नत होने की कामना कर सकता है, लेकिन स्वर्गीय ग्रहों के देवता भी भारत-वर्ष आना चाहते हैं और ऐसे शरीर पाना चाहते हैं जिनका उपयोग बहुत सरलता से कृष्ण चेतना के सक्रिय करने के लिए किया जा सके. इसलिए श्री चैतन्य महाप्रभु बार बार कहते हैं:

भारत-भूमिते हैल मनुष्य-जन्म यर
जन्म सार्थक कारी करा परा-उपकार

भारत-वर्ष की भूमि में जन्मे मनुष्य के पास कृष्ण चेतना विकसित करने का विशेषाधिकार होता है. इसलिए जो लोग पहले से ही भारत-वर्ष में पैदा हुए हैं, उन्हें शास्त्रों और गुरु से प्रशिक्षण लेना चाहिए और कृष्ण चेतना से पूरी तरह सुसज्जित होने के लिए श्री चैतन्य महाप्रभु की दया का लाभ उठाना चाहिए. कृष्ण चेतना का पूरा लाभ उठाकर, व्यक्ति वापस घर, परम भगवान तक लौट जाता है (यन्ति मद्-यजिनो’पि मम). इसलिए कृष्ण चेतना आंदोलन पूरे संसार में कई केंद्रों को खोलकर मानव समाज को यह सुविधा दे रहा है, ताकि लोग कृष्ण चेतना आंदोलन के शुद्ध भक्तों के साथ जुड़ सकें, कृष्ण चेतना के विज्ञान को समझ सकें और अंततः वापस घर, परम भगवान तक जा सकें. ”

 

अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी), “श्रीमद् भागवतम्”, पाँचवा सर्ग, अध्याय 19 – पाठ 28

(Visited 28 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •