सूक्ष्म से स्थूल तक सभी भौतिक रचनाएँ घटित होती हैं. संपूर्ण ब्रम्हांड इसी विधि से विकसित हुआ है. आकाश से स्पर्श बोध विकसित हुआ, जो बाह्य समय, परम भगवान के व्यक्तित्व की बाह्य ऊर्जा और दृष्टि का एक मिश्रण है. स्पर्श बोध आकाश में वायु के अंतर्गत विकसित हुआ. इसी समान, अन्य सभी स्थूल पदार्थ भी सूक्ष्म से स्थूल में विकसित हुए: ध्वनि आकाश में विकसित हुई, स्पर्श वायु में, रूप अग्नि में विकसित हुआ, स्वाद जल में विकसित हुआ, और गंध पृथ्वी में विकसित हुई.

उसके बाद अत्यंत बलशाली वायु ने, आकाश से संवाद करके, इंद्रिय बोध का रूप पैदा किया, और रूप बोध विद्युत में परिवर्तित हुआ, वह प्रकाश जिससे संसार को देखा जा सके. जब विद्युत वायु में अधिभारित की गई और परम भगवान द्वारा उस पर दृष्टिपात किया गया, उस समय, शाश्वत समय और बाह्य ऊर्जा के मिश्रण द्वारा, जल और स्वाद की रचना हुई.

उसके बाद विद्युत से उत्पन्न जल पर परम भगवान के सर्वोत्तम व्यक्तित्व द्वारा दृष्टि डाली गई और उसे शाश्वत समय और बाह्य ऊर्जा से मिलाया गया. इस प्रकार वह पृथ्वी में रूपांतरित हो गया, जो मुख्य रूप से गंध के गुण से संपन्न होती है.

उपरोक्त छंदों में किए गए भौतिक तत्वों के वर्णन से, यह स्पष्ट है कि सभी चरणों में अन्य परिवर्धनों और परिवर्तनों के साथ सर्वोच्च की दृष्टि की आवश्यकता होती है. प्रत्येक रूपांतरण में, अंतिम परिष्करण स्पर्श प्रभु की झलक होती है, जिनकी भूमिका एक चित्रकार जैसी होती है जब वह विभिन्न रंगों को मिलाकर कोई विशिष्ट रंग बनाता है. जब एक तत्व किसी अन्य तत्व के साथ मिलता है, तब उसके गुणों में वृद्धि हो जाती है. उदाहरण के लिए, आकाश वायु का कारण है. आकाश का केवल एक गुण होता है, जो है ध्वनि, परंतु आकाश के भगवान की दृष्टि से संवाद, और शाश्वत समय और बाह्य प्रकृति से उसके मिश्रण से, वायु उत्पन्न होती है, जिसके दो गुण, ध्वनि और स्पर्श होते हैं. उसी प्रकार, वायु की उत्पत्ति के बाद, समय और भगवान की बाह्य ऊर्जा से मिश्रित आकाश और वायु का संवाद, विद्युत का निर्माण करता है. और समय के साथ मिश्रित विद्युत का वायु और आकाश, उन पर भगवान की दृष्टि और बाह्य ऊर्जा के साथ संगम से, जल का निर्माण होता है. आकाश के अंतिम चरण में एक गुण होता है, अर्थात ध्वनि; वायु में दो गुण, ध्वनि और स्पर्श; विद्युत में तीन गुण, अर्थात् ध्वनि, स्पर्श और रूप; जल में चार गुण, ध्वनि, स्पर्श, रूप और स्वाद; और भौतिक विकास के अंतिम चरण का परिणाम पृथ्वी होता है, जिसमें सभी पाँच गुण–ध्वनि, स्पर्श, रूप, स्वाद और गंध होते हैं. हालाँकि वे विभिन्न सामगियों के विभिन्न मिश्रण होते हैं, ऐसे मिश्रण अपने आप नहीं घटित होते, उसी तरह जैसे रंगों का मिश्रण बिना जीवित चित्रकार के स्पर्श के नहीं घटित होता. स्वचालित प्रणाली वास्तव में प्रभु की दृष्टि के स्पर्श से सक्रिय हो जाती है.जीवित चेतना सभी भौतिक परिवर्तनों में अंतिम है. इस तथ्य का उल्लेख भगवद-गीता (9.10) में इस प्रकार किया गया है:

मध्यक्षेण प्रकृतिः सुयते स-कारकारम

हेतुणानेन कौन्तेय जगद् विपरिवर्तते

उपसंहार यही है कि साधारण दृष्टि से देखने पर भौतिक तत्व आश्चर्यजनक रूप से कार्य करते होंगे,लेकिन उनका कार्य कर पाना वास्तव में भगवान की देख-रेख में होता है. वे जो केवल भौतिक तत्वों के परिवर्तन को ही देख पाते हैं और उनके पीछे भगवान के छिपे हुए हाथों को नहीं देख पाते, वे निश्चित ही अल्प बुद्धि वाले हैं, यद्यपि हो सकता है उनकी प्रसिद्धि महान भौतिक वैज्ञानिकों के रूप में हो.

स्रोत:अभय भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेजी), श्रीमद भागवतम्, तृतीय सर्ग, अध्याय 5 - पाठ 33 से 36.
(Visited 36 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •