“श्री कृष्ण सभी आत्माओं की आत्मा हैं, उनके सबसे प्रिय मित्र और शुभचिंतक हैं. जैसा कि भागवतम के ग्यारहवें सर्ग (11.5.41) में कहा गया है:

देवर्षि-भूताप्त-नृनां न किंकरो नायम ऋणी च राजन
सर्वात्माना यः शरणम् गतो मुकुंदं परिहृत्य कर्तम

“”हे राजा, जिसने सभी भौतिक कर्तव्यों को त्याग दिया है और मुकुंद के चरण कमलों का पूर्ण आश्रय ले लिया है, जो सभी को आश्रय प्रदान करते हैं, वह देवताओं, महान संतों, सामान्य जीवों, संबंधियों, मित्रों, मानव जाति का ही नहीं बल्कि पूर्वजों (जिनका निधन हो चुका) का भी ऋणी नहीं रहता है. चूँकि जीवों के ऐसे सभी वर्ग परमेश्वर के अभिन्न अंग हैं, जिस ने भगवान की सेवा में समर्पण कर दिया है, उसे ऐसे व्यक्तियों की पृथक से सेवा करने की कोई आवश्यकता नहीं है.” प्राधिकार समस्त अस्तित्व के अधिकारी, परम भगवान की ओर से ही उत्पन्न होता है. पतियों, माताओं, सरकारी नेताओं और ऋषियों जैसे प्राधिकार रखने वाले प्राकृतिक व्यक्ति परम भगवान से ही अपनी शक्ति और अधिकार प्राप्त करते हैं और इसीलिए उनके द्वारा उनका अनुसरण करने वालों के लिए परम सत्य का प्रतिनिधित्व करना चाहिए. यदि व्यक्ति पूरे मन से मूल, परम सत्य, की प्रेममय सेवा में समर्पित हो जाता है, तो फिर उसे उपरोक्त वर्णित दूसरी श्रेणी के प्राधिकारियों के माध्यम से परम सत्य की अप्रत्यक्ष सेवा करने की आवश्यकता नहीं होती. जब व्यक्ति सीधे परम सत्य के संपर्क में होता है तो सभी अप्रत्यक्ष प्राधिकरण लुप्त हो जाते हैं.

यद्यपि, भगवान के प्रति समर्पित आत्मा, आध्यात्मिक गुरु की सेवा करना जारी रखता है, जो कि परम भगवान का अप्रत्यक्ष नहीं, बल्कि प्रत्यक्ष प्रतिनिधि होता है. एक प्रामाणिक आचार्य, या आध्यात्मिक गुरु, वह पारदर्शी माध्यम होता है जो शिष्य को कृष्ण के चरण कमलों तक ले जाता है.”

स्रोत: अभय चरणारविंद भक्तिवेदांत स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), श्रीमद् भागवतम्, दसवाँ सर्ग, अध्याय 29 – पाठ 32

(Visited 11 times, 1 visits today)
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    1
    Share