बाली महाराज और इंद्र शत्रु थे. इसलिए, जब देवताओं के गुरु, बृहस्पति ने भविष्यवाणी की कि बाली महाराज का नाश होगा क्योंकि उन्होंने उन ब्राम्हणों का अपमान किया जिनकी कृपा से वे इतने शक्तिशाली बने थे, तो बाली महाराज के शत्रु स्वाभाविक रूप से यह जानने के लिए चिंतित थे कि वह अवसर कब आएगा. राजा इंद्र को शांत करने के लिए, बृहस्पति ने उन्हें आश्वस्त किया कि वह समय निश्चित ही आएगा, क्योंकि बृहस्पति देख सकते थे कि भविष्य में बाली महाराज भगवान विष्णु, वामनदेव को संतुष्ट करने के लिए शुक्राचार्य के आदेशों की अवहेलना करेंगे. निस्संदेह, कृष्ण चेतना में प्रगति करने के लिए व्यक्ति सारे जोखिम उठा सकता है. वामनदेव को प्रसन्न करने के लिए, बाली महाराज ने अपने आध्यात्मिक गुरु, शुक्राचार्य के आदेशों की अवहेलना करने का जोखिम लिया. इस कारण वे अपनी समस्त संपत्ति खो देंगे, तब भी भगवान की भक्तिमय सेवा के कारण, उन्हें आशा से अधिक प्राप्त होगा, और भविष्य में, आठवें मन्वंतर में, वे फिर से इंद्र का आसन ग्रहण करेंगे.

स्रोत – अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2014 संस्करण, अंग्रेज़ी), “श्रीमद् भागवतम्” , आठवाँ सर्ग, अध्याय 15, पाठ 31

(Visited 28 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •