जीवन जीने की स्थिति का मूल सिद्धांत यह है कि हमारी सामान्य प्रवृत्ति किसी से प्रेम करने की होती है. यह प्रवृत्ति प्रत्येक जीव में पाई जाती है. यहाँ तक कि बाघ जैसे पशु में भी यह प्रेम प्रवृत्ति पाई जाती है, भले ही सुषुप्त अवस्था में, और यह मनुष्य में निश्चित रूप से मौजूद है. हालाँकि, अनुपस्थित बिंदु यही है कि अपने प्रेम को कहाँ अभिव्यक्त करें ताकि सभी प्रसन्न हों. वर्तमान समय में मानव समाज किसी व्यक्ति को अपने देश या परिवार या अपने निजी आत्म से प्रेम करना सिखाता है, लेकिन इस बात की कोई जानकारी नहीं होती है कि प्रेमपूर्ण प्रवृत्ति को कहाँ अभिव्यक्त किया जाए ताकि हर कोई प्रसन्न हो सके. वह अनुपस्थित बिंदु कृष्ण हैं.

पहले चरण में कोई बच्चा अपने माता-पिता से प्रेम करता है, फिर अपने भाई और बहनों से, और जैसे-जैसे वह प्रतिदिन बड़ा होता है अपने परिवार, समाज, समुदाय, देश, राष्ट्र, या समस्त मानव समाज से भी प्रेम करना शुरू कर देता है. लेकिन प्रेमपूर्ण प्रवृत्ति संपूर्ण मानव समाज को प्रेम करने से भी संतुष्ट नहीं होती है; जब तक हम परम प्रेमपात्र को नहीं जान पाते हैं, तब तक प्रेमपूर्ण प्रवृत्ति अधूरे रूप में ही पूरी होती है. हमारा प्रेम पूर्ण रूप से तभी संतुष्ट हो सकता है जब वह कृष्ण में प्रतिष्ठित हो. हमारी प्रेमपूर्ण प्रवृत्ति प्रकाश या वायु के कंपन के रूप में फैलती है, लेकिन हम नहीं जानते कि यह कहां समाप्त होती है. यदि हम कृष्ण को प्रेम करना सीख जाएँ, तो फिर तुरंत और एक साथ हर जीव को प्रेम करना बहुत सरल हो जाएगा. यह किसी पेड़ की जड़ पर पानी डालने या किसी के पेट में भोजन की आपूर्ति करने जैसा है. किसी पेड़ की जड़ को पानी देने या पेट में खाद्य पदार्थों की आपूर्ति करने की विधि सार्वभौमिक रूप से वैज्ञानिक और व्यावहारिक है, जैसा कि हम में से हर एक ने अनुभव किया है. हर कोई अच्छी तरह से जानता है कि जब हम कुछ खाते हैं, या दूसरे शब्दों में, जब हम पेट में खाद्य पदार्थों को डालते हैं, तो इस तरह की गतिविधि से निर्मित ऊर्जा तुरंत पूरे शरीर में वितरित हो जाती है. इसी तरह, जब हम जड़ में पानी डालते हैं, तो इस प्रकार निर्मित ऊर्जा तुरंत बड़े से बड़े पेड़ की संपूर्णता में वितरित हो जाती है. यह संभव नहीं है कि पेड़ के एक-एक करके हर भाग को पानी दिया जाए, न ही ये संभव है कि शरीर के विभिन्न भागों को अलग-अलग भोजन दिया जाए.

अभय चरणारविंद स्वामी प्रभुपाद (2011 संस्करण, अंग्रेजी), भक्ति का अमृत, पृ. 15

(Visited 9 times, 1 visits today)
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •