सृजन की पूरी प्रक्रिया क्रमिक विकास का एक कार्य है.