भगवान भौतिक संसार का निर्माण अपनी संतुष्टि के लिए नहीं करते.