हमारे ध्यान का प्रयोजन क्या होना चाहिए?