आरंभ में ब्रम्हा ने केवल संत समान पुत्र ही नहीं उत्पन्न किए अपितु राक्षसी संतानें भी रचीं.